प्रेमपर तलवार कतबो चलत ताहि सँ की हेतैक : चंदन कुमार झा


मैथिली गीत काव्यक परम्परा आरम्भहिं सँ बेस ललितगर आ समृद्धशाली रहल अछि. मैथिली भाषाक जे अप्पन गुण -धर्म आ भाषाइ संरचना छैक ताहि मे एक गोट विशिष्ठ प्रकारक गेयधर्मिता घुलल-बसल अछि. जौं हमरासभ मैथिली साहित्यक आरंभिक काल पर गंभीरता पूर्वक धिआन केंद्रित करी तँ ई चीज स्पष्ट देखबा मे अबैत अछि जे मैथिली पूर्व मे सम्भवतः  गीत-काव्यक भाषा केर माध्यम टा छल.  तहन एम्हर आबि कए  मैथिली गीतकार लोकनि पहिने सँ कायम मैथिलीक चास-बास कें कतेक कायम राखि सकलाह अछि से विचारणीय प्रश्न अछि ? 

चंदन कुमार झा मैथिली रचनाकारक युवा पीढ़ीक एक गोट चर्चित, गंभीर आ अंखिगर नाम छथि. मुख्य रूपेँ कविता करैत छथि, तथापि हिनक  गीत-गजल,  कथा, निबंध-समीक्षा आदि सेहो समय-समय पर पत्र-पत्रिका सभ मे बहराइत रहलनि अछि. एम्हर एकटा पैघ समय अंतरालक उपरांत हिनक किछु गीत पढ़बाक अवसर प्राप्त भेल. खांटी मैथिली मे लिखल हिनक ई गीत सब ततेक बेसी प्रभावित कयलक जे अपने सभक समक्ष सेहो परोसने बिनु नहि रहि सकलहुँ. मैथिली गीत-साहित्य पर लिखनिहार-बजनिहार लोक कें चंदन जीक गीत-काव्य पर सेहो विचार करबाक चाही - माॅडरेटर.
_________________________________________________________________________

प्रस्तुत अछि चंदन कुमार झाक तीन गोट गीत :-
    
                      (१)

प्रेम पर तलवार कतबो चलत ताहि सँ की हेतै
प्रेम आखर-खण्ड उनटे जगतभरि छिड़िया जेतैक
 घृणा परसय लोक बिच किछु लोक जे संसार मे
 ठाठ जे देखइत कियो अछि लोक-अत्याचार मे
ऊँच नहि कहियो दनुज ओ मनुजता सं भ' सकत
भविष्यो एहि इरखे सं प्रेम केँ अपना लेतैक
प्रेम पर तलवार कतबो चलत ताहि सं की हेतैक
प्रेम-आखर-खण्ड उनटे जगतभरि छिड़िया जेतैक

रौद मे तपि स्वयं शीतल ज्योति बिलहय चन्द्रिका
क्षणहि मे केहनो सघन तम चीरि दइए दीपिका
त्याग, तप, संघर्ष सं की दुष्ट कहियो सकि सकत
पुण्य केर आभा सदति दिनमान सन बढ़िते जेतैक
प्रेम पर तलवार कतबो चलत ताहि सं की हेतैक
प्रेम-आखर-खण्ड उनटे जगतभरि छिड़िया जेतैक

प्रेम मधुरस पीबिते भ' जाइछ तिरपित आत्मा
प्रेम तँ थिक ब्रह्म, प्रेमहि मे बसथि परमात्मा
सृजन केँ निज धर्म बूझि ई सर्जना करिते रहत
एकर संहारक प्रयासी केँ सफल नहि भ हेतैक
प्रेम पर तलवार कतबो चलत ताहि सं की हेतैक
प्रेम-आखर-खण्ड उनटे जगतभरि छिड़िया जेतैक

               (२ )

लगै छल भार जे जीवन
लगैछ उपहार से जीवन
अहाँक मुस्कीक स्पर्शेँ
भेल भकरार सन जीवन


रहय उन्मुक्त ई जहिया, छनने छलैक जड़ता
सिनेहक सूत मे बन्हिते, पैसिलै अङ्ग चंचलता
सुखायल ठोढ़ सटलै ठोढ़ सँ कि मधु सँ भिजलै
बहल जे नयन सँ सरिता
बनल रसधार सन जीवन

रहय छल कान पाथल बाटपर, पदचाप सुनबा लए
कुचरिते काग केर मन दोड़ि जाए सम्वाद सुनबा लए
मिलनक बेर आयल अछि कि मधुमास अछि आयल
अहाँक दू-बोल कि छुलकै
बाजल तार सन जीवन

लगय छल रूप ई अप्पन केहन कुदरूप सन पहिने
लगय छल चित्र अहूँ केर नहि अपरूप सन पहिने
निहारै छी अहाँ हमरा, निहारी हम अहाँ केँ
अनुपम रूप देखि नेहक
भरल श्रृंगार सँ जीवन
लगै छल भार जे जीवन
लगैछ उपहार से जीवन
अहाँक मुस्कीक स्पर्शेँ
भेल भकरार सन जीवन

                   (३)

आइ उचितवक्ता जे जग मे, से कहबैत मरखाह अछि
जानय लल्लो-चप्पो जे बड़, से सभ बनल गवाह अछि

जे जनैत अछि उनटा-फेरी
मंत्र जकर छओ-पाँच
से पबैत अछि उँचगर आसन
दसटा लोकक माँझ
लोक बुझैए सज्जन ओकरे, जक्कर मोन घवाह अछि
जानय लल्लो-चप्पो जे बड़, से सभ बनल गवाह अछि

जे जनैछ नहि पेँच-पाँच से
कहबय-बुद्धिक काँच
हितहुँ-मीत नचाबय ओकरे
दसगर्दा मे नाच
परतारब'क प्रताड़न सहि-सहि, शुद्धा भेल तबाह अछि
जानय लल्लो-चप्पो जे बड़, से सभ बनल गवाह अछि

केहनो शीत-बसात चीड़ि कऽ,
लहकि उठैत अछि आँच
झूठक बढ़ि जाइ जतेक प्रवलता
जीतय सदिखन साँच
अज्ञानी केँ ज्ञानक ज्योति, लगैत बड़ झरकाह अछि
आइ उचितवक्ता सभ जग मे, तेँ कहबैत मरखाह अछि

 संपर्क :
चंदन कुमार झा
इमेल : cjha83@gmail.com
मोबाइल :09748405526



2 comments :

  1. बेजोड़ गीत अछि तीनु चन्दन भाई।
    बहुत बढियाँ।

    ReplyDelete
  2. बहुत नीक तीनू गीत।

    ReplyDelete

Copyright © ई-मिथिला. Designed by