Wednesday, June 17, 2015

यात्रीजीक स्मृतिमे, सजग कविता संस्कृतिक दोसर महाधिवेशन संपन्न

पछिला रविदिन मधुबनीमे सजग कविता संस्कृतिक दोसर महाधिवेशनक आयोजन छल. एहि आयोजनक खबरि फेसबुक पर सेहो देखने छलहुँ. युवा कवि गुंजनश्री एहि कार्यक्रमक आँखि देखल रिपोर्ट लिखि पठौलनिए.ओना तँ हम ई-मिथिलाकेँ रिपोर्ट सभसँ बँचबैत रहलहुँए मुदा साहित्यिक आयोजनक समाद नै परसब सेहो ठीक नै बुझना गेल तें साझा क' रहल छी, पढ़ू- माॅडरेटर.
 
सजग कविता संस्कृति आ मैथिली साहित्यिक-सांस्कृतिक समितिक संयुक्त अधिवेशन, बिहार माध्यमिक शिक्षक संघ, मधुबनीमे विगत 14 जून,2015 केँ संपन्न भेल. ई सजग कविता संस्कृतिक दोसर महाधिवेशन छल. बाबा यात्रीक स्मृतिमे आयोजित ई कार्यक्रम दू सत्रमे विभक्त छल.

पहिल वैचारिक सत्रमे यात्रीजी आ हुनक प्रगतिशील परंपरा पर विमर्श आयोजित कयल गेल छल जकर अध्यक्षता डाॅ. कुलधारी सिंह जी केलनि. बाबा पर केन्द्रित एहि सत्रमे डाॅ. कमलानंद झा 'विभूति' ,अरूणाभ सौरभ, उदयचन्द्र झा 'विनोद' रामचैतन्य धीरज, देवेन्द्र मंडल आ महेन्द्र मलंगिया अपन-अपन विचार
गुंजनश्री
रखलनि. जाहिमे केन्द्रीय विवि गया केर हिंदी विभागाध्यक्ष कमलानंद झा विभूति कहलनि जे यात्रीजी चाहे कोनो भाषामे लिखैत छलाह मुदा ओ मैथिली आ मिथिले बाॅचैत छलाह. ओतहि प्रसिद्ध रंगकर्मी महेन्द्र मलंगिया बाबाक 'पारो' पर चर्च केलनि. लगभग डेढ़ धंटा धरि चलल एहि सत्रमे बाबाक संबंधमे बहुते ज्ञानवर्द्धक गप्प सोझाँ आयल. एहि सत्रक संचालन दिलीप कुमार झा केलनि.

ओकर बाद दोसर सत्रमे कवि सम्मेलन आयोजित भेल. उदयचन्द्र झा विनोद'क अध्यक्षतामे होम' बला एहि सत्रमे लगभग तीन दर्जनिसँ बेसी कवि अपन कविता सुनौलनि.आहृलादक गप्प ई जे एहिमे लगभग दू दर्जनि कवि सुच्चा युवा छलाह. सब कवि खासकेँ युवा कवि (किछु अपवाद)केँ छोड़ि देल जाय तँ बेसी युवा कविक कवितामे विचारक अभाव आ कांच सन सुआद लागल. एहि सत्रमे दमन कुमार झा, रघुनाथ मुखिया, गुंजन श्री, सुरेश पासवान, अंजली कुमारी, नवीन आशा, विनय विश्वबंधु, अरूणाभ सौरभ, दिलीप कुमार झा, मोहन मुरारी झा, कुमकुम कुमारी, मनोज महतो,मिथिलेश कुमार झा आदि कवि अपन कविता सुनौलनि.

तखन एतबा धरि कहब जे आयोजन बेस सफल रहलैक. सजग कविता संस्कृति आ मिथिला साहित्यिक आ सांस्कृतिक समिति दुनू एहि तरहक सफल आयोजन लेल धन्यवादक पात्र छथि.

गुंजनश्री
इमेल :gunjansir@gmail.com
मोबाइल:9386907933

No comments:

Post a Comment